Search This Blog

Sunday, June 12, 2011

तेरी चाहत बस इस चाहत को जिंदा रखना ...




उनका यू दूर जाना हुआ और हमसे ये कहेना हुआ...

की जा तो रहे हैं हम जानेमन पर यू दिल कही लगा मत लेना.. ,

है मोहोबात  बेहद तुमसे सनम ...

कुछ समय के लिये ही सही पर इस दिल में किसी को  मेरे सिवा जगह मत देना... 

लौटना है एक दिन वापस  तेरे पास ...

मेरी जगह मेरी ही रखना ...

हर पल ना सही याद मत करना पर अपनी सासों में मेरा नाम लिखना... 

आता हूँ आसमा से चांद तोड़ कर ...

कल फिर अपने वादे से मुकर मत जाना ...

है भरोसा मुझ पर... 

जिसे मुझ पर बनाये रखना ...

है तेरी चाहत बस इस चाहत को जिंदा रखना ...

4 comments:

  1. अच्‍छा अहसास

    ReplyDelete
  2. MOHABBAT NA HOTI TO GAZAL KON KEHTA,
    KICHAD KE PHOOL KO KAMAL KON KEHTA,
    PYAR TO MOHABBAT KA KARISHMA HAI VARNA
    PATTAR KE MEHAL KO TAJ MEHAL KON KEHTA.

    ReplyDelete